NEW POSTING | 2019 बैच की IAS ऑफिसर काजल जावला होंगी शहपुरा की नई SDM, 2018 में बिना कोचिंग गए पांचवें प्रयास में हासिल की थी देश में 28वीं रैंक

  • IAS बनने से पहले 09 साल तक मल्टी नेशनल कंपनी में की जॉब, ₹23 लाख था सालाना पैकेज; पति आशीष मलिक ने किया एक्जाम की तैयारी में सहयोग



डीडीएन रिपोर्टर | शहपुरा/डिंडौरी

2019 बैच की IAS ऑफिसर काजल जावला शहपुरा की नई SDM होंगी। 2018 में बिना कोचिंग गए देश में 28वीं रैंक हासिल करने वाली काजल पूर्व SDM अंजू विश्वकर्मा की जगह लेंगी। 2017 बैच की IAS ऑफिसर अंजू को 12 जुलाई को डिंडौरी जिला पंचायत CEO के रूप में ट्रांसफर हुआ था। मध्यप्रदेश सामान्य प्रशासन विभाग ने आदेश जारी कर दिया है। IAS काजल शिवपुरी की असिस्टेंट कलेक्टर के पद से ट्रांसफर होकर शहपुरा आ रही हैं। पूर्व में उनका ट्रांसफर श्योपुर जिले के विजयपुर में SDM के रूप में हुआ था, लेकिन शासन ने संशोधित आदेश में उन्हें शहपुरा SDM की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बता दें कि काजल ने पांचवें प्रयास में IAS की परीक्षा में सफलता हासिल की। पहली बार पिता के कहने पर 2012 में सिविस सर्विसेस की परीक्षा दी, लेकिन वह कट ऑफ तक भी नहीं पहुंच पाईं। उन्होंने हार नहीं मानी और 2013, 2014 और 2015 में भी प्रयास जारी रखा, मगर फिर भी सफलता नहीं मिली। अंतत: 2018 में काजल की मेहनत रंग लाई और उन्होंने MNC में 09 घंटे की जॉब करते हुए देशभर में 28वीं रैंक हासिल कर पूर्व की सभी असफलताओं को पीछे छोड़ दिया। 



2016 में रोहतक के आशीष मलिक से हुई शादी

मूलत: हरियाणा के शामली से ताल्लुक रखने वाली IAS काजल ने 2010 में मथुरा से इलेक्ट्रोनिक कम्युनिकेशन में बीटेक की पढ़ाई की और फिर मल्टी नेशनल कंपनी (MNC) विप्रो में जॉब करने लगीं। उनका सालाना पैकेज ₹23 लाख था। साल 2016 में काजल को जीवनसाथी मिला। पति आशीष मलिक भी हरियाणा के रोहतक से ताल्लुक रखते हैं। शादी के वक्त आशीष दिल्ली स्थित अमेरिकन एंबेसी में कार्यरत थे। पति की प्रेरणा और सहयोग से काजल ने IAS की परीक्षा में सफलता हासिल की। जॉब और शादीशुदा जीवन में समन्वय रखते हुए काजल का IAS एक्जाम में देश में 28वीं रैंक लाना निश्चित तौर पर मिसाल है। काजल कहती हैं कि उन्होंने कभी भी जिम्मेदारियों और मुश्किलों को परीक्षा की तैयारी में बाधा नहीं बनने दिया। MNC में जॉब करते हुए अपनी तैयारी जारी रखी और पति के सहयोग से मनपसंद लक्ष्य हासिल किया। 

Comments
Unknown said…
Thank you mam well com
Popular posts
फैक्ट चैक | गलत अर्थ के साथ वायरल हो रहा श्रीरामचरित मानस का दोहा-चौपाई, बनारस के विद्वानों ने बताई सच्चाई
Image
सहस्त्रधारा... यहां राजा सहस्त्रार्जुन ने अपने एक हजार हाथों से की थी मां नर्मदा के प्रवाह को रोकने की कोशिश
Image
बोंदर में लगा खुशियों का मेला : बोंदर को 2 करोड़ 6 लाख के स्कूल-हॉस्टल की सौगात
Image
श्रीऋणमुक्तेश्वर मंदिर कुकर्रामठ... यहां स्थापित शिवलिंग के दर्शन करने से मिलती है पितृ-देव-गुरु-ऋण से मुक्ति
Image