लक्ष्मण मड़वा : श्रीराम के वनवास काल का गवाह है यह स्थान, इसे रामघाट भी कहते हैं

मां नर्मदा की गोद में बसा प्राकृतिक सुंदरता से ओतप्रोत पावन स्थान


डीडीएन इनपुट डेस्क | डिंडौरी से महज 7-8 किलोमीटर दूर प्राकृतिक स्थान लक्ष्मण मड़वा स्थित है। इसकी सुरक्षा मां नर्मदा के तट पर बसे गांव कोहका की रक्षा समिति करती है। यहां पर भगवान श्रीराम के वनवास काल में मौजूदगी के प्रमाण भी मिलते हैं। मां नर्मदा के किनारे इस ओर लक्ष्मण मड़वा (मंडप) स्थित है और दूसरी ओर रामघाट। वनवास काल में श्रीराम, सीता और लक्ष्मण ज्यादातर नदी के किनारों पर ही बसेरा बनाते थे। लक्ष्मण मड़वा उन्हीं स्थानाें में से एक है, जो मां नर्मदा के तट पर बसा हुआ है। घाट के सामने एक मंदिर भी स्थित है, जिसमें भगवान राम, माता सीता, लक्ष्मण और मां नर्मदा की प्रतिमा स्थापित है। साथ ही एक शिवलिंग भी है। रामनवमी, महाशिवरात्रि जैसे पावन अवसरों समेत सामान्य दिनों में भी काफी पर्यटक यहां आते हैं। 



मां नर्मदा के पानी से बनते हैं छोटे-छोटे प्राकृतिक झरने


लक्ष्मण मडवा की ओर मां नर्मदा का प्रवाह अमरकंटक की तरफ आता है। यहां पर चट्‌टानों की बनावट के कारण मां नर्मदा का पानी अपनी बनाते हुए बहता है। इससे कई स्थानों पर कुछ छोटे-छोटे प्राकृतिक झरने बन जाते हैं। मां नर्मदा के तट पर स्थित सुन्दर घाट रामघाट कहा जाता है |


आश्रम में होती है परिक्रमावासियों के रुकने-भोजन की व्यवस्था


मंदिर परिसर में ही एक आश्रम बना हुआ है। कुछ संन्यासी साधु-संत और कोहका के स्थानीय लोग इसकी देखरेख करते हैं। मां नर्मदा परिक्रमा के लिए इस पड़ाव से होकर अमरकंटक की ओर जाने वाले परिक्रमावासियों के लिए यहां पर रुकने और भोजनादि की व्यवस्था की जाती है। यहां दीपावली के बाद भव्य मड़ई (मेला) का आयोजन किया जाता है।


मप्र के पूर्व सीएम शिवराज सिंह और उमा भारती का घास लगाव


लक्ष्मण मड़वा से मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उमा भारती का खास लगाव है। डिंडौरी जिले के दौरे के दौरान दोनों नेता इस स्थान पर जरूर आते रहे हैं। पूर्व में यहां की संरक्षण करने वाली सिद्ध तपस्विनी माता से उमा भारती का जुड़ाव मां-बेटी की तरह रहा। उमा भारती साध्वी माता को अपनी मां मानती थीं।


Comments
Popular posts
हल्दी करेली... डिंडौरी के मिनी गोवा में परिवार के साथ उठाइए आउटिंग का आनंद मगर गंदगी न फैलाएं
Image
Social Concern | डिंडौरी के सुबखार निवासी मजदूर परिवार की बेटी को यूट्रस में थे ट्यूमर, महीनों इलाज के लिए भटके माता-पिता; नागपुर के डॉ. शशिकांत रघुवंशी ने फ्री ऑपरेशन कर बचाया जीवन
Image
श्रीऋणमुक्तेश्वर मंदिर कुकर्रामठ... यहां स्थापित शिवलिंग के दर्शन करने से मिलती है पितृ-देव-गुरु-ऋण से मुक्ति
Image
1857 की क्रांति में डिंडौरी के वीर-वीरांगनाओं ने अंग्रेजों को कई बार चटाई धूल, 1500 ईस्वी पहले माहिष्मती नगरी था मंडला
Image
Dindori Needs Railways | डिंडौरी को रेलवे लाइन से जोड़ने के लिए डिंडौरी डेवलपमेंट फेडरेशन ने SDM महेश मंडलोई को सौंपा सीएम के नाम ज्ञापन
Image